नारी पर आधारित मनहरण घनाक्षरी (Dr NK Sethi)

अब तक कुल देखे गये :

नारी जगत का सार
     नारी सृष्टि काआधार
         जननी वो कहलाती 
             मान उसे दीजिये।।
             💐💐💐
नारी ईश्वर का रूप
     उसकी शक्ति अनूप
         देती है सबको प्यार
              उसे खुश कीजिये।।
               💐💐💐
नारी हृदय विशाल
     रखती है खुशहाल
          ममता का आगार है
              दुख मत दीजिए।।
              💐💐💐
सृष्टा की अद्भुत सृष्टि
    करती वात्सल्य वृष्टि
        नारी के रूप अनेक
             हर रूप पूजिये।।
             💐💐💐
नारी में है मानवता
    त्याग और पावनता
         शक्ति का स्वरूप नारी
               विश्वास भी कीजिये।।
              💐💐💐
नारी है ईश वंदन
   नारी माथे का चंदन
        नारी नही है अबला
              सहयोग कीजिये।।
               💐💐💐
नारी है जग की आशा
    शब्द नही पूरी भाषा
        रंगों की है फुलवारी
              देवी सम पूजिये।।
              💐💐💐
माँ बहन बेटी नारी
   पत्नी है पति की प्यारी
        नारी से बड़ा न कोई
             वंदन भी कीजिये।।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

         ©डॉ एन के सेठी
              बाँदीकुई(दौसा)

Post a Comment

0 Comments