Showing posts from September, 2019Show All
सूनी इक डाली हूँ-नील सुनील( suni ek dali hun)
तुममें राम कौन है?-राहुल लोहट(Tumme Ram koun hai)
अभी मैं मरा नहीं हूँ-नील सुनील (Abhi mai mara nhi hu)
महकती धरा  को प्रदुषण से बचाना होगा (mahakati dhara ko pradushan se bachaana hoga)
दुर्गा के नौ रूप...(9 दोहे)-केतन साहू "खेतिहर"(durga ke nou rup)
कलम की ताकत(kalam ki taqat)
माँ दुर्गा से संबंधित हाइकु-सुधा शर्मा(sudha sharma's haiku)
माँग भक्ति के भीख(Maang bhakti ke bhikh)
हाथ जोङकर विनय करू माँ(Hath jodkar vinay karun maa)
हे महिषासुर मर्दिनी (Hey mahishaasur mardini)
आओ चले गाँव की ओर-रीतु देवी (aao chalen gaav ki ore)
माँ पर दोहे- राजकिशोर धिरही (maa par dohe)
विश्वास की परिभाषा - वर्षा जैन "प्रखर"( Vishwas ki paribhaasha)
सदा ही याद आएगा-बाबू लाल शर्मा, बौहरा ( sada hi yaad aayega)
सत्य की खोज में नारी - रजनी श्री बेदी(satya ki khoj me naari)
आदि भवानी-रामनाथ साहू " ननकी "(Aadi bhavani)                       
माधुरी मंजरी -  नटवर (Natwar)
अमित अनुभूति के दोहे(amit anubhuti ke dohe)
रोटियाँ- सुलोचना परमार "उत्तरांचली ";(Rotiyaan)
स्वच्छता पर छः कुंडलिया छंद (Six Kundalia verses on cleanliness)
पारिजात के फूलो की तरह मेरे आँसू -विजिया गुप्ता "समिधा" (Parijat ke phulo ki tarah mere aanshu)
दुनिया से प्लास्टिक मिटा देंगे हम(Duniya se plastic mita denge ham)
मदारी-दिलीप कुमार पाठक "सरस"(madaari)
नारी- बाबूलालशर्मा(चौपाई छंद)(Naari)
गरीबी का दर्द-महेश गुप्ता जौनपुरी(garibi ka dard)
हिमा नजर आ रही है-सुरेन्द्र सैनी (hima nazar aa rahi hai)
तू सम्भल जा अब भी वक्त ये तुम्हारा है -बाँके बिहारी बरबीगहीया (tu sambhal ja ab bhi waqt tumhara hai)
रास नहीं क्यों आता है-राजकिशोर धिरही(raas nahi kyo aata hai)
आसाम प्रदेश पर आधारित दोहे-सुचिता अग्रवाल "सुचिसंदीप"(aasam related dohe)
 प्रीत के रंग में-राजेश पाण्डेय *अब्र* (preet ke rang me)
क्या होती है निराशा - धनेश्वर पटेल ( kya hoti hai nirasha)